भिकूचा घंटा - marathi language sambhog katha

Friday, 12 August 2016

भिकूचा घंटा

 गडी तिच्या मागे उभा होता. तो एका हाताने सावित्रीच्या थान्याच्या बोंडाला चुरगळत होता. दुसरा हात तिच्या कडक ताठ झालेल्या चुत दाण्याला चोळत होता. “साह्येब काल रातच्याला सिल्व्ही बाईंनी मला रानतला खास ठोकू गडी मागीतला होता. हा घ्या माझा खास गडी भिकू. मागल्या साहा महीन्यात ह्याने शहरा कडच्या बर्*याच बायकांना ह्याच्या लवड्याच्या झवाड्या बनवल्या हाएत. हे खास तेल ह्यानेच बनवले हाय. ये भिकू असा पुढ ये की. तुझा त्यो दांडका दाखव की. काशे अग घे ह्या दांडक्याला जागे कर, बाईंना बघु दे, बाई तुम्ही सुरु कराना.”

काशीने त्याच्या कंबरेचे फडके उघडले त्याला पुर्ण नागडा केला. तो उभाच होता. सावीत्री त्याच्या मागून जाउन त्याच्या थान्याचे बोंड चुरगळत होती. काशीने लवड्याला थुक लावले व चांगली जोरकस मुठ मारायला सुरु केले. लवडा जागा व्हायला सुरु झाले. काळा भोर लवड्याचा मणी एकदम लाल गुलाबी होता. मण्याच्या मागे मोठा गोळा जमायला सुरु झाले. गोळ्यानंतरचा लवडा चांगलाच कडक, जाड व लांब होता. तो लवडा देवळातल्या घंटेच्या आत बसवलेल्या लोलकासारखा होता. त्या आकाराचा आज असा लवडा पाहणे आम्हाला नवीनच होते. सिल्व्हीने कॅमेरा पॅटच्या हातात दिला त्याला व्हिडीओ करयला सांगितले व ती भिकुच्या लवड्यावर तुटून पडली. भिकूने सिल्व्हीला खाटे वर टाकले. तिच्या चुत मधे घसवून ठेवलेली काकडी त्याने बाहेर काढून चोखली. तिच्या चुतची चव त्याला आवडली. त्याने तिची चुत व मणी चोखायला सुरु केले. दोन्ही बोटे त्या खास तेलात बुडवून त्याने तिच्या चुत मधे घातली व चुतच्या आतून खूप तेल चोळले.

सिल्व्ही भिकूला लवडा आत ठोकायला सांगत होती. तिची तडफड सुरु झाली. पण भिकू एकदम सावकाश होता. त्याच्या लवड्या वर सावीत्रीने तेल चोळले. त्याने सिल्व्हीला कुत्री सरखे वाकायला लावले व मागून तीच्या चुत मधे लवडा घुसवायला सुरु केले. मणी आत गपकन गेला पण मागचा गोळा त्याने जोर लावून आत घुसवला. सिल्व्हीने चुत फाटली म्हणत बोंब मारणे सुरु केले. त्याने पुन्हा एक जोरकस धक्का देत त्याचा ९ इंची दांडका एका धक्क्यात पुर्ण आत घुसवला. सिल्व्ही एकदम ताठ झाली. भिकूने तिचे दोन्ही थाने जोर लावून चोळले व मग बोंडाला जोरकस चिमटा घेतला तशी सिल्व्ही गपकन खाली वाकली. आता भिकू सुरु झाला. त्या तेलाने व भिकूच्या लवड्याच्या पाण्याने दोघे पेटले होते. एखादे एंजीन चालावे तसा तो तीला झवत होता. तेला मुळे पचपच आवाज येत होता. मी सुलीला खाली वाकवून मागून झवायला सुरु केले. भिकूचे झवणे बघून मी पण पेटलो होतो. काशीने पॅटचा लवडा चोखायला चालू केले. सावीत्री मणी चोळत होती. भिकूचे कुत्रे मागे थांबले नाही ते पण सावित्रीची चुत चाटायला लागले. त्या कुत्र्याची लांब चिभ तिच्या चुत मधे आत बाहेर करीत होती. पॅटचा कॅमेरा सगळे अगदी जवळून टीपत होता.

सिल्व्ही तिनदा झडली होती. ती झडताना भिकूला झवणे थांबायला सांगत होती पण तो तिला तितक्याच जोराने न थांबता झवत होता. तीने भिकूला धक्का देऊन खाटेवर आडवे केले त्याचा लवडा तिच्या चूत मधे कुत्र्या सारखा अडकलेला होता. त्याने तीला लवड्यावर नीट बसवले. सिल्व्हीने जोरात मुताचा फवरा उडवला. त्याला लवडा आत असताना असे मुतणे नवीन होते. त्याने तीची कंबर घट्ट पकडून वेगाने झवायला सुरु केले. मी पण सुलीला वेगाने झवायला सुरू केले. ती माझा चीक तीच्या चुत मधे मागत होती. मी पण धक्के देत तीला झवत सगळा चिक तिच्या चूत मधे रिकामा केला. तीने सावकाश लवडा बाहेर काढला व चोखायला सुरु केले. त्या तेलामूळे माझा लवडा शांत व्हायला तयार नव्हता. सावीत्री माझ्या जवळ आली. कुत्र्याने तीची चूत चाटून तीला झवायला तयार केली होती.

Read more...

Teacher ki jabarjasta chudai

Wednesday, 3 August 2016

Ok friends my name is ahmad from islamabad pakistan main app logo ko jo story sunany ja raha hon ye bikul sachi story hain is main kuch be jhoot nahee hain ab main story liknay ja raha hon main islamabad main rehta hon hight 6feet and few inch rang gora body bilkul fit main islamabad main 1 ghar main as a driver kaam karta ta wo bohat hee paisay walay log te kafi bada ghar ta un ka uss ghar main 4 log rehtay te husband wife aur un k do bachay 3 se 5 saal kay darmyan umar tee un ki uss ka husband buisness man ta wo subah hee nikal jata ta aur main usay car main lekar uss jay office tak poncha deta ta aur bacho ko pir school tak poncha deta ta aur uss kay baad agar mam saab ko kuch kaam hota tu usay b shoping lejata ta ek din main saab ko office chor aya bacho ko school chor aya aur jab wapis agiya tu apnay bahir walay kamre main let giya han main tu batana bhool hee giya uss house wife ka naam sana ta aur uss ki age takreeban 35 kay lag bag tee uss kay mamay kafi baday baday te aur uss ki hight be kafi teelakin sab se achi baat uss main mujay kiya lagtee tee uss ki gand bohat moti tee aur jab be wo chalti tee tu gand hila hila kar chaltee tee kher uss din jab main kaam khatam kar k wapis agiya tu apnay kamre main let giya itnay main awaz ai ahmad ider ajao main kaha han mam saab kiya baat hain uss nay kaha k ander tu ajao main ghar main giya uss nay red colour ki sari.

Pehni te uss nay kaha ahmad mere gutnay main bohat dard ho raha kuch dino se doctor ko b dikaya hain lakin dark kuch kam hee nahee hota main nay jee tu main kiya karon uss nay kaha zara daba saktay ho agar mind na karo tu main nay kaha han jee daba donga uss nay kaha teek hain pir wo double bed par let gai aur main uss kay per daba raha ta wo keh rahi bada acha lag raha hain pir kaha uder tel hain wo zara garam kar k laga do aur mere dard wali jaga ki malish kar do main kichen main giya aur tel garam kar k wapis agiya wo usi tarha he leti tee main nay uss kay per se sari todi ooper ki aur malish karnay laga gutnay tak main nay sari utai tee uss ki main nay malish start ki tee wo keh rahi abhi toda aram mehsoos kar rahi hon main kaha ji acha thodi der malish kay baad wo ulta ho k let gaye aur kehnay lagi abhi doosre side se be kar do dard kam ho giya hain ulta letnay se uss ki moti gand ooper hogaye aur badi mast lag rahi temain malish kar raha ta aur main nay sari ko toda sa aur ooper kiya tu uss ki ki mote mote tighs nazar anay lagay main malish kar raha ta aur uss ki moti gand dek kar mera lun khada ho giya malish kartay kartay main toha aur ooper malish karnay laga main nay kaha mam saab sari ko thoda ooper karon aisa na ho tel se gandi ho jaye app ki sari wo boli han ooper kar do main nay jaisay hee thodi aur ooper ki sari tu peechay uss ki gand nazar anay lagi safed moti gand wah kiya nazara ta woh mera lun bilkul bekaboo ta main thoda sa ghutnay se ooper malish karnay laga thighs pe wo boli sari ko ooper kar aisa na gandi ho jaye thoda aur ooper kar main aur ooper ki sari deka tu uss ki moti gand ab saaf dek rahi tee aur heran karnay wali baat ye tee k uss nay sari kay neechay kuch pehna hee nahee ta mainaik haat se malish kar raha aur doosre se sari ko ooper pakra ta aur gand ka nazara kar raha ta is doran wo zara tangain pel kar let gaye aur boli ab teek hain main kaha jee jab main nay peechay se deka tu uss ki moti choot peechay se saaf sutri dik rahi tee aik b bhaal nahee ta uss par gand moti honay ki wajah se gand ka ched sahee nahee dik raha ta main nay kaha mam saab uss nay kaha han bolo main nay kaha jee kuch nahee wo boli bol kiya baat hain tak gaye kiya chal chor agar tak gaye ho main nay kaha nahee mam saab kuch poochna hain uss nay kaha hain poocho main nay kaha mam saab app nay sari k neechay kuch nahee pehna wo boli q kiya baat hain ye tum kaisi batain kar rahay ho main nay kaha mam saab app ki gand aur app ki moti choot peechay se dik rahee hainwo boli kiyamain nay kaha jee main nay app ki sari ko ooper utaya tu app ki choot saaf dik rahee hain uss nay kaha acha main uss ki choot ko 1 ungli lagai aur kaha i think app apna peticoat pehnna bjool gaye hain wo boli han main nahee pehantee peticoat main nay kaha mam saab yaha b malish karon uss nay kaha han kar do pir main nay uss ki choot ko haat lagaya aur wo isi tarha leti tee aur boli k main kab se inezaar kar rahi tee k kab tum isay haat lagaogay lakin tum nahee kar paye ab karo malish.

Main uss pe bahir unglian pera raha ta pir main nay 1 ungli andar kar dee wo boli hmm aisa hee karo main pussy ki malish kar raha ta peechay se pir main nay kaha mam saab 1 baat poochon uss nay kaha han main nay kaha app ki and kay ched ko kiya main dek sakta hon uss nay kaha han dek uss ki gand itni moti aur tight tee is wajah semain nay dono hips ko dono hato se khol diya wah kiya maza ta uss waqt uss ki gand ka ched bilkul black colour ka ta saaf 1 b baal nahee ta uss par main nay us par tel wali ungali perai aur jat se apni zaban uss main daal de uss se ajeeb lakin zabardast smell a rahi teemujay bohat acha laga uss ki pussy se peechay se juice nikal raha ta aur itnay main wo boli ahmad ganday ye kiya kar raha hain apni jeeb daal de is gandi jagah main nay kaha mam saab mujay ye bohat acha lagta hain pir takreeban main nay peechay se uss ki gand ko 15/20 tak chata aur jab main nay ungli anadr ki tu wo ghusa ho k boli nahee ab bas itna bohat ta main nay kaha mam saab kiya main app ko chod sakta hon wo boli nahee hat jao yaha se bas apnay kamre main jao aur wo khadi ho kar sari teek kar kar k bahir garden main chali gaye …… Uss kay baad mujay aisa moqa nahee mila ab main uder job nahee karta ab mujay office main job mil gaye hain.

Read more...

Bus Main Budhdhe Se Maza

Sunday, 17 July 2016

Yeh un dino kee baat hai jab mai 9th me padhti thee. Ek din Mumy aur maine Netaji Nagar se Khanpur me saadi attend

Karne ke liye 7 baje saam ko 512 rout kee bus pakdi.

Maine Skirt top pahna thaa. Un dino Netaji Nagarse saam ke waqt labour class kee Families (Rajasthan ke) bahut log Khanpur ke liye safar karte the kyonki khanpur naya naya basa thaa. Bus me bahut bheed hoti thee agar appne upar bus ka danda pakad rakha ho aur apko apne haath neeche karna ho to nahi kar paate the ek dusare se log bhinche huwe rahte the. Mai mumy ke bagal me ek haath se bus kee chhat wala danda aur dusre haath se seat ke peechhe wala danda paiad kar khadi thee meri bagal aurpeechhe rajasthani ladies (labour) khadi thee. Do teen baar mere hips par haath laga aur jitni baar maine badi muskil se mudkar dekha to wahi rajasthani ladies theen sayad ye ladies apas me bahut jor-jor se baaten kar rahi thee aur ek dusre ko haathon se dhakka mukki kar rahi theen is liye socha unheek haath baar baar lag raha hooga aur aisa fir kai baar huwa so maine parwah nahi kee.

Jab bhi koi passenger aage jaata tha to jor ka dhakka lagta tha ab keebaar bhi laga magar is baar kok nukeeli chees meri gaand se takrai bahut kosis kee magar ek dusre se chipke huwe hone ke karan dekh nahi paayi fir ek dhakka laga aur fir ek baar gaand sewahi nukeeli chees takrayi kisi tarah gardan ghuma kar dekha to ek rajasthani budha jiski age 55 saal se jada hogi lambi lambi muchhe aurdadhi badhi huyi maine socha budha to koi harkat nahi kar sakta. Kai baar dhakke lage aur har baar wo nukeeli chees meri gaand se takra jaati. Abki baar continue 4-5 dhakke lage aur wo nukeeli chees meri gaand se sat gai aur tabhi mujhe apne hips par geela geela mahsoos huwa. Mai kisi tarah ek haath apne peechhe hips par legai mera haath seetha mere peechhe khade budhhe ke land par pahuncha. Meri skirt upar uthi huyi thee aur us budhhe ne meri kachhi ke upar hee apna paani jhaad diya thaa jo gond jaisa chip chipa tha. Maine budhhe ke land ko pakda jo dheere dheere sikud kar chhota sa ho gaya. Maine apni skirt neeche kee aur fir se us haatha se bus kee peechhe wala danda pakad liya.

2 minute ke baad hi wo budhha apne haath kee ungliyon se meri kachhee ke upar se hee dono hips ke darar me ragadne laga. mai thodee se hili aur apni position change kee magar budhha apni harkaton se baaj nahi aaya. Wo kabhi meri jaangh par ungliyan ferta kabhi hips ke dara me.Bahut bachane kee kosis kee magar last me chup chaap khade rahne ke alawa koi chaara hi nahee thaa. Ek chhoti se ladki mere aage ghus kar khadi ho gai jis karan mujhe thoda sa aur peechhe sarakna pada. Budhha meri jaangh aur hips par barabar haath ferta jaa raha thaa. Jab uska haath jaangh par meri chut kee taraf sarakta mare sarir me sirhan doud jaati. Uska haath khurdara thaa jis karan meri jaangh par jalan bhi hone lagi. Abki baar uska dusra haath meri dusri jaangh par pahuncha aur dheere dheere uski ek ungli meri kachhi ke upar se hi meri chut tak pahunchee hee thee ki us side wali lady rajasthani me boli Phool Singh kai kare chhe Budhha apna haath peechhe kheench kar kaampti awaj me bola chhori se maze leo tho hathe thaadi rah wo lady badbadati rahi aur mere muh par dekh kar muskaratee bhi.

Bhudhe ke ek ungli fir se meri chut ke par pahunch gai thodi der kachhe ke upar se hi ghumane ke baadusne kachhi kee side se ungli andar daal kar nai nai ugi jhanto ke upar ghumane laga. mujhe bhi maza aane laga aur mai neeche dekh rahi thee ki koi us budhhe ke haath kee harkaton ko dekhto nahi raha hai. Meri chut ke andar gudgudi ho rahi thee aur kabhi kabhi andar khujli karne ka man kar raha thaa is liye mai thodi see tedhi ho gai taaki budhe ke ungli ko andar jaane ke liye jagah mil jaaye. Maine apnee tange bhi thodi see chouri kar dee. Budha bhi sayad samaj gaya thaa aur wo bhi ungali andar daalne ke liye jaldbaaji karne laga. lekin uski ungli chut ke muh tak nahi pahunch paa rahi thee. Bus saket ka stand paar kar chuki thee mai bhi chah rahi thee ki uski ungli jaldi se andar jaaye aur meri khujli saant kare hum dono hee purjor kosis kar rahe the ki pata nahi kya huwa mere pet ke andar se 3-4 jhatake lage aur mujhe apni chut me geelapan mahsoos huwa mere kaan sunn hogaye ankhe bhinch gayi thee budha hanste huwe bola chhori ko to chhoot gayo ek lady boli ib gantho bheench le meri samaj me nahi aaya. Par budhe ne uske baad kuchh nahi kiya aur Virat Cinema ke stand par mai aur mumy utar gaye. Kai dino baad pata chala ki unki language me gantha chhati (doodh) ko kahte hai.

Read more...

चाचा का लण्ड चूसा और खींच खींच कर रस निकालने लगी

Monday, 11 July 2016

मेरे घर वाले जब अहमदाबाद में जब सेटल हुए तो मुझे पापा ने होस्टल में डाल दिया। होस्टल में रह कर मैंने एस.सी. की पढ़ाई पूरी की थी। मेरे होस्टल के पास ही पापा के एक दोस्त रहते थे, पापा ने उन्हें मेरा गार्जियन बना दिया था। वो चाचा करीब 54 55 साल के थे। उनका बिजनेस बहुत फ़ैला हुआ था। एक तो उन्हें बिजनेस सम्हालना और फ़िर टूर पर जाना... उन्हें घर के लिये समय ही नहीं मिलता था। आन्टी नहीं रही थी... बस उनके दो लड़के थे, जो बिजनेस में उनका साथ देते थे। घर पर वो अकेले रहते थे।
उन्होने घर की एक चाबी मुझे भी दे रखी थी। मैंकम्प्यूटर के लिये रोज़ शाम को वहां जाती थी... चाचाकभी मिलते...कभी नहीं मिलते थे... उस दिन मैं जबघर गई तो चाचा ड्रिंक कर रहे थे और कुछ काम कर रहेथे... मैं रोज़ की तरह कम्प्यूटर पर अपने ईमेल चेककरने लगी...
आज चाचा मुझे घूर रहे थे... मुझे भी अहसास हुआ किआज ...चाचा कुछ मूड में हैं...
"नेहा मुझे लगता है तुम्हें कम्प्यूटर की बहुत जरूरत हैक्योंकि तुम रोज़ ही कम्प्यूटर प्रयोग करती हो !"
"हां चाचा... पर पापा मुझे अभी नहीं दिलायेंगे..." 
"तुम चाहो तो ये कम्प्यूटर सेट तुम्हारा हो सकता है... परतुम्हे मेरा एक छोटा सा काम करना पड़ेगा..." सुनते हीमैं उछल पड़ी...
"सच चाचा... बोलो बोलो क्या करना पड़ेगा..." मैं उठकर चाचा के पास आ गई।
"कुछ खास नहीं... वही जो तुम पहले कितनी ही बारकर चुकी हो..."
"अरे वाह चाचा ...... तब तो कम्प्यूटर मेरा हो गया......"मैं चहक उठी।
"आओ... उस कमरे में..."
मैं चाचा के पीछे पीछे उनके बेड रूम में चली आई।उन्होने अन्दर से रूम को बन्द करके कुन्डी लगा दी।मुझे लगा कि चाचा कहीं कुछ गड़बड़ तो नहीं करनेवाले हैं। मेरा शक सही निकला।
उन्होने मेरा हाथ पकड़ लिया और कहा "नेहा... मैं बरसोंसे अकेला हूं... तुम्हें देख कर मेरी मर्दों वाली इच्छाभड़क उठी है... प्लीज़ मेरी मदद करो..." 
"चाचा... पर आप तो मेरे पापा के बराबर है..." मैंने कुछसोचते हुए कहा। एक तो मुझे कम्प्यूटर मिल रहा था...... पर चाचा ने ये क्यों कहा कि तुम पहले कितनी हीबार कर चुकी हो... चाचा को कैसे पता चला।
"सुनो नेहा ... तुम्हे मुझे कोई खतरा नहीं है... क्योंकिअब मेरी उमर नहीं रही... और फिर मेरा घर तो तुम्हारेलिये खुला है...तुम चाहो तो तुम्हारे दोस्त को भी यहाबुला सकती हो" 
मैं समझ गई कि चाचा ये सब पता चल चुका है...अचानक मुझे सब याद आ गया... शायद चाचा को मेराईमेल एड्रेस और पासवर्ड मिल गया था...जो गलती सेमेज पर ही लिखा हुआ छूट गया था।
"चाचा... मेरा मेल पढ़ते है ना आप..." चाचा मुस्करादिये। मैं उनकी छाती से लग गई।
" थैंक्स नेहा..." कह कर उन्होंने मेरे चूतड़ दबा दिये। मैंनेअपने होंठ उनकी तरफ़ बढ़ा दिये... उन्होने मेरे होंठो सेअपने होंठ मिला दिये... दारू की तेज महक आई...चाचा ने मेरी जीन्स ढीली कर दी... फिर मैंने स्वयं हीझुक कर उतार दी... टोप अपने आप ही उतार दिया।चाचा ने बड़े प्यार से मेरे जिस्म को सहलाना शुरु करदिया। मेरे बोबे फ़ड़क उठे... ब्रा कसने लगने लग गई...पेंटी तंग लगने लगी... पर मुझे कुछ भी करने कीजरूरत नहीं पड़ी... चाचा ने खुद ही मेरी पुरानी सी ब्राखींच कर उतार दी और पैंटी भी जोश में फ़ाड़ दी।
"चाचा ये क्या... अब मैं क्या पहनूंगी..." मैंने शिकायतकी।
"अब तुम मेरी रानी हो... तुम ये पहनोगी... नही... मेरेसाथ चलना... एक से एक दिला दूंगा......" चाचा जोशमें भरे बोले जा रहे थे। मुझे नंगी करके चाचा ने बिस्तरपर लेटा दिया। मेरे पांव चीर दिये और मेरी चूत परअपने होन्ठ लगा दिये। मेरी चूत में से पानी निकलनेलगा... चुदने की इच्छा बलवती होने लगी। मेरा दाना भीफ़ड़कने लगा... चाचा जीभ से मेरे दाने को चाट रहे थे...साथ में जीभ चूत में भी अन्दर जा रही थी। मेरीउत्तेजना बढ़ती जा रही थी। अब चाचा ने मेरे पांव औरऊपर उठा दिये...मेरी गाण्ड ऊपर आ गई... उन्होने मेरीचूतड़ की दोनो फ़ांके अपने हाथों से चौड़ा दी। औरगाण्ड के छेद पर अपनी जीभ घुसा दी और गाण्ड कोचाटने लगे। मुझे गाण्ड पर तेज गुदगुदी होने लगी।
"हाय चाचा... बहुत मजा आ रहा है..." 
कुछ देर गाण्ड चटने के बाद उनके हाथ मेरे बदन कीमालिश करने लगे... 
अब मैं चाचा से लिपट पड़ी...उनकी कमीज़ और दूसरेकपड़े उतार फ़ेंके। उनका बदन एकदम चिकना था...कोई बाल नहीं थे... गोरा बदन... लम्बा और मोटा लण्डझूलता हुआ। सुपाड़ा खुला हुआ ...लाल मोटा औरचिकना। मैंने चाचा का लण्ड पकड़ लिया और दबानाशुरू कर दिया। चाचा के मुह से सिसकारी निकलनेलगी।
"आहऽऽऽ नेहा... कितने सालों बाद मुझे ये सुख मिलाहै... हाय... मसल डाल..."
मैंने चाचा का लण्ड मसलना और मुठ मारना चालू करदिया। वो बिस्तर पर सीधे लेट गये उनका लण्ड खड़ा होचुका था... मेरे से रहा नहीं गया... मैं उनके ऊपर बैठ गईऔर चूत के द्वार पर लण्ड रख दिया। मैंने जोश में जोरलगा कर सुपाड़ा को अन्दर लेने की कोशिश करनेलगी... पर लण्ड बार बार इधर उधर मुड़ जाता था...शायद लण्ड पर पूरी तनाव नहीं आया था।
"चाचा......ये तो हाय...जा नहीं रहा है..." मैं तड़पउठी...
" बस ऐसे ही मुझे रगड़ती रहो... लण्ड मसलती रहो...।"मैं चाचा से ऊपर ही लिपट पड़ी और चूत को उनकेलण्ड पर मारने लगी। पर वो नहीं घुस रहा था। मैं उठीऔर उनके लण्ड को मुख में ले कर चूसने लगी... उन्केलण्ड मे बस थोड़ा सा उठान था। सीधा खड़ा था परनरम था... चाचा अपने चूतड़ उछाल उछाल कर मेरेमुख को ही चोदने लगे। मैंने उनका सुपाड़ा बुरी तरह सेचूस डाला और दांतो से कुचला भी... नतीजा... एकतेज पिचकारी ने मेरे मुख को भिगा दिया...चाचा ज्यादासह नहीं पाये थे। चाचा जोर लगा लगा कर सारा वीर्यमेरे मुख में निकाल रहे थे। मैंने कोशिश की कि ज्यादा सेज्यादा मैं पी जाऊं। मैं उनका लण्ड पकड़ कर खींचखींच कर रस निकालने लगी... चाचा का सारा मालबाहर आ चुका था। उनका सारा जोश ठंडा पड़ चुकाथा... उनका लण्ड और भी ज्यादा मुरझा गया था। औरवो थक चुके थे।
मैं पलंग से उतर कर नीचे बैठ गई और दो अंगुलियों कोचूत मे डाल कर अन्दर घुमाने लगी... कुछ ही देर में मैंभी झड़ गई। मैं जल्दी से उठी और बाथ रूम में जा करमुंह हाथ धो आई... चाचा दरवाजे पर खड़े थे...
" नेहा... तुम्हे कैसे थैंक्स दूं... आज से ये घर तुम्हाराहै...आओ भोजन करें..."
"चाचा... पर आपका तो खड़ा होता ही नहीं है... फिरभी इतना ढेर सारा पानी कैसे निकला..."
"बेटी... बस ये ही तो खड़ा नहीं होता है... इच्छायें तोवैसी ही रहती हैं... इच्छायें शांत हो जाती है तो ही काममें मन लगता है..."
बाहर से नौकर को बुला कर डिनर लगवा दिया... औरकहा," मेरी कार ले जाओ ... और ये कम्प्यूटर सेट नेहाबेटी के होस्टल में लगा दो।
मैं खुश थी कि बिना चुदे ही कम्प्युटर मुझे मिल गया।डिनर के बाद मैं होस्टल जाने लगी तो एक बार चाचा नेफिर से मुझे गले लगा लिया।
"चाचा ... प्लीज़ आप दुखी मत होईये... आपकी नेहा हैना... आपका पूरा खयाल रखेगी..." चाचा को किसकरके मैं होस्टल की तरफ़ चल पड़ी।
चाचा मुझे जाते हुए प्यार से निहारते रहे......

Read more...

Hindi sex kahani

Friday, 8 July 2016

मैं उस समय लगभग अट्ठारह साल की थी, तब का यह किस्सा है। मेरे माता-पिता किसी की शादी में बाहर गए हुए थे।

उस दिन मैं एक सेक्सी प्रोग्राम टीवी पर देख रही थी। उसमें एक लड़का लेटा था तथा एक लड़की उसके पास बैठ कर उसके बदन से मस्ती कर रही थी। फिर लड़की ने अपना कुरता खोल दिया, अब वो ब्रा में थी। फिर लड़के से उसने अपनी ब्रा का हुक खुलवा लिया। फिर लड़की ने लड़के के कमीज के सारे बटन खोल दिए। अब लड़का उसके स्तनों से खेलने लगा। लड़की को बड़ा मजा आ रहा था, लड़के का लंड भी उठ गया था तथा वो ऊपर को तन गया था। लड़के ने लड़की की सलवार का नाड़ा खोल दिया और उसकी पैंटी में हाथ डाल दिया। अब लड़की ने भी लड़के की पैंट के बटन खोल कर उसकी चड्डी में हाथ डाल दिया।

मैं यह सब देख रही थी तथा बहुत मजा आ रहा था। मेरी भी चूत अभी गीली हो रही थी। मैंने अपनी चूत में अंगुली डाली तो बड़ा मजा आया। मैंने सोचा कि बिस्तर पर लेट कर मजा लूँगी लेकिन इसी वक्त मुझे लगा कि मरे पीछे भी कोई टीवी देख रहा है। मैंने जल्दी से टीवी बंद किया और पीछे देखा। मेरे अंकल जो फौज में काम करते थे, वो भी देख रहे थे। मैं उनको देख कर मुस्करा दी और बिस्तर पर चली गई, मैं नींद का बहाना करने लगी।

आधे घंटे बाद मुझे लगा कि मेरे साथ कोई सोया हुआ है। मुझे समझते देर नहीं लगी कि यह फौजी अंकल ही होंगे। उन्होंने अपने शरीर को मेरे शरीर से छुआ दिया। मैंने नींद का बहाना जारी रखा। धीरे धीरे उन्होंने अपना हाथ मेरे वक्ष पर रखा। फिर थोड़ी देर के बाद वो अपने हाथ को फिराने लगे। एक चूची से दूसरी चूची तक धीरे धीरे हाथ फिराते रहे।

मुझे बहुत मजा आ रहा था लेकिन मैंने नींद का बहाना जारी रखा।

धीरे धीरे वो अपने हाथ को मेरी कमर पर ले गए और फिर वो अपना हाथ मेरी टांगों के बीच में ले गए। उन्होंने मेरी चूत पर अपना हाथ फेरा।

मुझे बहुत मजा आ रहा था लेकिन मैंने नींद का बहाना जारी रखा।

अब वो मेरी कुर्ती के अन्दर हाथ डालने की कोशिश करने लगे। वो अपने हाथ मेरी कमर के नीचे डाल कर मेरी कुर्ती की ज़िप तक पहुँचाना चाहते थे लेकिन कर नहीं पाए। मैं धीरे से टेढ़ी हो गई। इसका फायदा उन्होंने उठाया और जल्दी से मेरी कुर्ती की ज़िप खोल दी। इसके बाद उन्होंने मेरी कुर्ती को भी उतार दिया।

मैंने फिर भी नींद का बहाना जारी रखा।

अब मेरी कमर पे सिर्फ ब्रा थी। अंकल मेरी ब्रा में हाथ डाल कर मेरी चूची को दबाने लगे। अब मुझसे भी रहा नहीं जा रहा था, मेरे तन-बदन में आग लग रही थी।

इसी बीच मेरे हाथ के पास एक कड़क चीज थी, यह अंकल का लंड था। अंकल अपना हाथ मेरे नंगे बदन पर घुमाने लगे, मेरे बदन पर चूमने लगे। अब उनका हाथ मेरी सलवार तक पहुँच गया और वो मेरा नाड़ा खोलने की कोशिश करने लगे। उनसे नाड़ा खुला नहीं और उल्टा उलझ गया।

अब मैं सोचने लगी कि क्या किया जाए !

किस तरह नींद में रह कर नाड़े को खोला जाए?

मैंने नींद में ही कहा- दरवाजा खुला न रहे ! नहीं तो बिल्ली आकर सब दूध पी लेगी।अंकल जल्दी से उठ कर दरवाजा बंद करने चले गए. मैंने जल्दी से अपना नाड़ा खोल कर इस तरह थोड़ा सा बांध दिया कि आसानी से खुल सके।

अंकल दरवाज़ा बंद करके आये। थोड़ी देर बाद हाथ फिरा का मेरा नाड़ा भी खोल दिया। अभी सलवार उतारने के लिए मुझे फिर अंकल की मदद करनी जरुरी थी। अंकल ने मेरी सलवार को नीचे खिसकाना चालू किया तो मैं थोड़ा सा ऊपर हो गई ताकि मेरी सलवार आसानी से उतर सके। अब मैं सिर्फ ब्रा और पैंटी में थी। अंकल का लंड भी बहुत बड़ा और कड़ा हो गया था जो कि मेरे बदन, जांघ से तथा मेरे हाथ से छू रहा था। अंकल कभी मेरी ब्रा में हाथ डालते तो कभी मेरी पैंटी में !

मैं अब तरपने लगी थी। अब अंकल ने अपने होंट मेरे होंठों पर रख दिए और मुझे चूमने लगे। अब मैंने भी अपनी आँखें खोल दी और उनको चूमने लगी।

अंकल ने पूछा- यह तुमको अच्छा लग रहा था?

मैंने कहा- बहुत अच्छा लग रहा था।

उन्होंने बोला- अब मैं जो करूँगा वो तुम्हें बहुत ज्यादा मजा देगा।

उन्होंने मेरी ब्रा और पैंटी उतार दी। फिर अपनी लुंगी भी खोल दी। उनका लंड एक दम कड़ा और लम्बा था। फिर उन्होंने मुझे पूछा- वैसलीन या घी कहाँ रखा है?

मैंने उनको पूछा- यह क्यों चाहिए?

तब उन्होंने बताया- तुम पहली बार चुदवा रही हो, इसलिए जरुरी है। इससे मेरा लंड तुम्हारी चूत में आराम से घुस जायेगा।

मेरी चूत तथा अपने लंड पर वैसलीन लगा कर वो मेरा चुम्मा लेने लगे तथा जोर जोर से मेरे वक्ष की मालिश करने लगे।

उन्होंने कहा- अब तुम अपने दोनों पांव फ़ैला लो !

मैंने दोनों पांव फ़ैला लिए।

उन्होंने अपना लंड मेरी चूत पर रख दिया, फिर धीरे धीरे उसे दबाने लगे। मुझे बहुत अच्छा भी लग रहा था तथा दर्द भी हो रहा था। फिर उन्होंने थोड़ा सा लंड और दबा दिया।

अंकल बोले- घबराओ नहीं ! पहली बार दर्द होता हैं लेकिन इतना मजा आता है कि पूछो मत !

सही था, मैं तो पूरा लंड लेना चाहती थी। थोड़ी सी देर में उन्होंने पूरा लंड मेरी चूत में डाल दिया। मुझे भी दर्द हुआ तथा खून भी निकला लेकिन इतना मजा आया कि पूछो मत।

अब अंकल ऊपर-नीचे होने लगे और मैं भी अपनी चूत को ऊपर-नीचे करने लगी। बहुत ज्यादा मजा आ रहां था...

कुछ मिनट तक ऊपर-नीचे करने के बाद अंकल एकदम अकड़ से गए और इसी बीच मेरे चूत के अन्दर भी जूस निकल गया।

Read more...

Meri boss ki chidai

Monday, 27 June 2016

मिस मोहिनी मेरी बॉस थी। उम्र रही होगी करीब २८ साल की। लम्बी करीब ५'८" और सारी गोलाईयां एकदम परफेक्ट .एक

दिन हमारे आफिस का नेटवर्क गडबडा गया। कभी ऑन होता तो कभी ऑफ। उसदिन शनिवार था। मैं दिन भर उसी में उलझा रहा पर उस गुत्थी को सुलझा नहीं पाया। आखिर थक कर मैंने मैडम को कहा कि अगले दिन यानि रविवार को सुबह नौ बजे आकर इस को ठीक करने की कोशिश करूंगा। मैंने उनसे आफिस की चाभियां ले लीं।

अगले दिन जब मैं नौ बजे ऑफिस पहुंचा तो देखा कि मोहिनी मैडम मेन गेट के सामने खडी हैं। मैंने उन्हें विश किया और पूछा "आप यहां क्या कर रही हैं"।

वो बोलीं " बस ऐसे ही। घर में बोर हो रही थी तो सोचा कि यहां आकर तुम्हारी मदद करूं"। हम दरवाजा खोलकर अन्दर गए। मैडम ने कहा कि आज इतवार होने की वजह से कोई नहीं आएगा। इसलिए सुरक्षा के खयाल से दरवाजा अन्दर से बन्द कर लो। मैंने उनके कहे अनुसार दरवाजा अन्दर से बन्द कर दिया। अब पूरे आफिस में हम दोनों अकेले थे और हमें कोई डिस्टर्ब भी नहीं कर सकता था। मुझे मोहिनी मैडम की नीयत ठीक नहीं लग रही थी। दाल में जरूर कुछ काला था। नहीं तो भला आज छुट्टी के दिन एक छोटी सी समस्या के लिए उन को दफ्तर आने की क्या जरूरत। मैडम घूम कर कम्प्यूटर लैब की तरफ चल दी और मैं भी मन्त्रमुग्ध सा उनके पीछे पीछे चल दिया। पूरे माहौल में उनके जिस्म की खुशबू थी। जब हम कॉरीडोर में थे तो मैंने उनकी पिछाडी पर गौर किया। हाय क्या फिगर था। हालांकि मैं कोई एक्सपर्ट नहीं हूं पर यह दावे के साथ कह सकता हूं कि अगर मोहिनी मैडम किसी ब्यूटी कॉन्टेस्ट में भाग ले तो अच्छे अच्छों की छुट्टी कर दें और देखने वाले अपने लन्ड संभालते रह जाएं। उनकी मस्तानी चाल को देख कर यूं लग रहा था मानो फैशन शो की रैम्प पर कैट वॉक कर रही हो। उनके चूतड पेन्डुलम की तरह दोनों तरफ झूल रहे थे। उन्होंने गहरे नीले रंग का डीप गले का चोलीनुमा ब्लाउज मैचिंग पारदर्शी साडी के साथ पहना था। उनकी पीठ तो मानो पूरी नंगी थी सिवाय एक पतली सी पट्टी के जो उनके ब्लाउज को पीछे से संभाले हुई थी। उन्होंने साडी भी काफी नीची बांधी हुई थी जहां से उनके चूतडों की घाटी शुरू होती है। बस यह समझ लो कि कल्पना के लिए बहुत कम बचा था। सारे पत्ते खुले हुए थे। अगर मुझमें जरा भी हिम्मत होती तो साली को वहीं पर पटक कर चोद देता। पर मैडम के कडक स्वभाव से मैं वाकिफ था और बिना किसी गलत हरकत के मन ही मन उनके नंगे जिस्म की कल्पना करते हुए चुप चाप उनके पीछे पाीछे चलता रहा। मैडम ने कल्पना के लिए बहुत ही कम छोडा था। साडी भी कस कर लपेटे हुई थी जिससे कि उनके मादक चूतड और उभर कर नजर आ रहे थे और दोनों चूतडों की थिरकन साफ साफ देखी जा सकती थी। मैंने गौर किया कि चलते वक्त उनके चूतड अलग अलग दिशाआें में चल रहे थे। पहले एक दूसरे से दूर होते फिर एक दूसरे के पास आते। मानो उनकी गान्ड खुल बन्द हो रही हो। जब दोनों चूतड पास आते तो उनकी साडी गान्ड की दरार में फंस जाती थी। यह सीन मुझे बहुत ही उत्तेजित कर रहा था और मन कर रहा था कि साडी के साथ साथ अपने लन्ड को भी उनकी गान्ड की दरार में डाल दूं। बडा ही गुदाज बदन थामोहिनी मैडम का।

लैब तक पहुंचते पहुंचते मेरी हालत खराब हो गई थी और मुझे लगने लगा कि अब और नहीं रूका जाएगा। लैब के दरवाजे पर पहुंच कर मैडम एकाएक रूक कर पलटी और मुझसे ऊपर की सेल्फ के केबल कनेक्शन जांचने को कहा। उनकी इस अचानक हरकत से मैं संभल नहीं पाया और अपने आप को संभालने के लिए अपने हाथ उनकी कमर पर रख दिए। मैडम ने एक दबी मुस्कराहट के साथ कहा "कोई शैतानी नहीं" और मेरे हाथ अपनी कमर से हटा दिए। मैंने झेंपतेे हुए उनसे माफी मांगी और लैब में ऊपर की सेल्फ से कम्प्यूटर हटाने लगा। मैडम भी उसी सेल्फ के पास झुककर नीचे के केबल देखने लगी। उनकी साडी का पल्लू सरक गया जिससे कि उनकी चूचियों का नजारा मेरे सामने आ गया। हाय क्या कमाल की चूचियां थीं। एक पल को तो लगा कि दो चांद उनकी चोली में से झांक रहे हों। वो ब्रा नहीं पहने थी जिससे कि चूची दर्शन में कोई रूकावट नहीं थी। और काम करना मेरे बस में नहीं था। मैं खडे खडे उस खूबसूरत नजारे को देखने लगा। चोली के ऊपर से पूरी की पूरी चूचियां नजर आ रही थीं। यहां तक कि उनके खडे गुलाबी निप्पल भी साफ मालूम दे रहे थे। शायद उन्हें मालूम था कि मैं ऊपर से फ्री शो देख रहा हूं। इसीलिए मुझे छेडने के लिए वो और आगे को झुक गई जिससे उनकी पूरी की पूरी चूचियां नजर आने लगीं। हाय क्या नजारा था। मैं खुशी खुशी चूचियों की घाटी में डूबने को तैयार था। ऐस लगता था मानो दो बडे बडे कश्मीरी सेव साथ साथ झूल रहो हों।

एकाएक मैडम ने अपना सर ऊपर उठाया और मुझे अपनी चूचियों को घूरते हुए पकड लिया। जब हमारी नजर मिली तो अपने निचले होठ को दांतों में दबा कर मुस्कराते हुए बोली "ऐ क्या देखता है"। मैं सकपका गया और कुछ भी नहीं बोल पाया। मैडम ने मेरे चूतडों पर हल्की सी चपता जमा कर कहा " शैतान कहीं के। फ्री शो देख रहा है"।

मेरा चेहरा लाल हो गया उनके मुस्कराने के अन्दाज से मैं और भी उत्तेजित हो गया और मेरा लौंडा जीन्स के अन्दर ही तन कर बाहर निकलने को बेचैन होने लगा। मैंने अपनी जीन्स को हिला कर लन्ड को ठीक करने की कोशिश की पर मुझे इसमें कामयाबी नहीं मिली। लन्ड इतना कडा हो गया था कि पूछो मत। बस ऊपर ही ऊपर होता जा रहा था और मेरी जीन्स उठती ही जा रही थी। मैडम ने मेरी परेशानी भांप ली और शरारती मुस्कराहट के साथ बोली " ये तुमने पैन्ट में क्या छुपाया है जरा देखूं तो मैं भी"। जब तक मैं कुछ बोलूं उन्होंने खडे होकर मेरे लन्ड को पकड लिया और पैन्ट के ऊपर ही से कस कर दबा दिया।

"हाय बडा तगडा लगता है तुम्हारा तो। बडा बेताब भी है। बस ऐसा ही लन्ड तो मुझे पसन्द है"। मैं तो हक्का बक्का रह गया। मैडम मोहिनी मेरे साथ फ्लर्ट कर रही हैं। चूंकि मैं टेबल के ऊपर खडा था इस लिए मेरा लन्ड उनके मुंह की ठीक सीध में था। वो अपने चेहरे को और पास लाइंर् और पैन्ट के ऊपर ही से मेरे लन्ड को चूमते हुए बोली " इसे जरा और पास से देखूं तो क्यों इतना अकड रहा है"। ऐसा कहते हुए मैडम मोहिनी ने मेरी जीन्स की जिप खोल दी। मैं आम तौर पर अन्डरवियर नहीं पहनता हूं। लिहाजा जिप खुलते ही मेरा लन्ड आजाद हो गया और उछलकर उनके चेहरे से जा टकराया।

"हूं ये तो बडा शैतान है। इसे तो सजा मिलनी चाहिए।" मैडम ने अपने सेक्सी मुंह को खोला और मेरे सुपाडे को अपने रसीले होठों में दबा लिया। मैं तो मूक दर्शक बन कर सातवें आसमान में पहुंच गया था। । मैंने मैडम का सर पकड कर अपने लौंडे पर दबाया और साथ ही साथ अपने चूतडों को आगे धक्का दिया। एक ही झटके में मेरा पूरा लन्ड मैडम के मुंह में कंठ तक घुस गया। उनका दम घुटने लगा और उन्होंने अपना सिर थोडा पीछे किया। मुझे लगा कि अब मैडम मुझे मेरे उतावलेपन के लिए डांटेगीं।

मैं बोला "सॅारी मैडम मैं अपने पर काबू नहीं रख पाया"।

उन्होंने बोलने से पहले मेरा लन्ड अपने मुंह से निकाला और मुस्कुराई "धत पगले। मैं तुम्हारी हालत का अन्दाजा लगा सकती हूं। तुम मुझेमोहिनी कह कर बुलाओ ठीक है ना। अब मुझे अपना काम करने दो"। ऐसा कह कर मैडम ने एक हाथ में मेरा लन्ड पकडा और शुरू हो गई उसका मजा लेने में। वो लन्ड को पूरा का पूरा बाहर निकाल कर फिर दोबारा अन्दर कर लेती। मैं भी धीरे धीरे कमर हिला हिला कर उनका मुंह चोदने लगा। कुछ देर बाद वो बोली "बस इसी तरह खडे खडे कमर हिलाने में क्या मजा आएगा। थोडा आगे बढो"़।

मैंने उनका इशारा भांप लिया और पहले उनके गालों को सहलाया। फिर धीरे धीरे हाथो को नीचे खिसकाते हुए उनकी गर्दन तक पहुंचा और उनकी चोली का स्ट्रैप खोल दिया। दोनों मस्त चूचियां उछल कर बाहर आ गई। मैडम ने भी मेरी जीन्स खोल दी और बिना लन्ड मुंह से बाहर किए नीचे उतार दी। फिर लन्ड चूसते हुए वो अपनी चूचियों को मेरी जांघों पर रगडने लगी। मैंने थोडा झुक कर उनकी चूचियों को पकडा और कस कस कर मसलने लगा। जल्द ही हम दोनों काफी उत्तेजित हो गए और हमारी सांसें तेज हो गई। मैं बोला "मैडम मैं पूरी तरह से आपको मजा नहीं दे पा रहा हूं। अगर इजाजत हो तो मैं भी नीचे आ जाऊं।"

मैडम ने मुझे गुस्से से देखा और हौले से सुपाडे को काट लिया। वो बोली "तुम मेरी बात नहीं मान रहे हो। अगर मैं बोलती हूं कि मुझे मोहिनी कह कर पुकारो तो तुम मुझे मोहिनी ही कहोगे मैडम नहीं।"

मैं बोला "सॉरी मोहिनी अब तो मुझे नीचे आने दो।" मोहिनी ने मेरा हाथ पकड कर नीचे उतरने में मदद की। नीचे आते ही मैंने उनके चूतडों को पकडा और अपने पास खींच कर होठों को चूमने लगा। अब मैं उनके होठों को चूसते हुए एक हाथ से चूतड सहला रहा था जबकि मेरा दूसरा हाथ उनकी चूचियों से खेल रहा था।मोहिनी मेरे लन्ड को हाथ में पकड कर सॉफ्ट टॉय की तरह मरोड रही थी। मैंने मोहिनी की साडी पकड कर खींच दी और पेटीकोट का भी नाडा खोल कर उतार दिया। मोहिनी ने भी मेरी टी शर्ट उतार दी और हम दोनों ही पूरी तरह नंगे हो गए। एक दूसरे को पागलों की तरह चूमते हुए हम वहीं जमीन पर लेट गए। चूत की खुशबू पा कर मेरा लन्ड फनफनाने लगा।मोहिनी भी गर्म हो गई थाी और अपनी चूत मेरे लन्ड पर रगड रही थी। हम दोनों एक दूसरे को कस कर जकडे हुए किस करते हुए कमरे के कालीन पर लोट पोट हो रहे थे। कभी मैं मोहिनी के ऊपर हो जाता तो कभीमोहिनी मेरे ऊपर। काफी देर तक यूं मजे लेने के बाद हम दोनो बैठ कर अपनी फूली हुई सांसों को काबू में करने की कोशिश करने लगे।

मोहिनी ने अपने बाल खोल दिए। मैं बालों को हटा कर उनकी गर्दन को चूमने लगा। फिर दोबारा उनके प्यारे प्यारे होठों को चूमते हुए उनकी चूचियों से खेलने लगा। मोहिनी मेरा सिर पकड कर अपनी रसीली चूचियों पर ले गई और अपने हाथ से पकड कर एक चूची मेरे मुंह में डाल दी। मैं प्यार से उनकी चूचियों को बारी बारी से चूमने लगा। वो काफी गरम हो गई थी और मुझे अपने ऊपर ६९ की पोजिशन में कर लिया। मैं उनकी रसीली चूत का अमृत पीने लगा।मोहिनी अपनी जीभ लपलपा कर मेरे लौंडे को चूसे जा रही थी। जब भी हम में से कोई भी झडने वाला होता तो दूसरा रूक कर उसको संभलने का मौका देता। कई बार हम दोनों ही किनारे तक पहुंच कर वापस आ गए। हमारी वासना का ज्वार बढता ही जा रहा था और बस अब एक दूसरे में समा जाने की ही बेकरारी थी।

मोहिनी ने मुझे अपने ऊपर से उठाया और खुद चित्त हो कर लेट गई। अपने दोनों पैर उठा कर अपने हाथों से पकड लिए और मुझे मोर्चे पर आने को कहा।मैंने भी मोहिनी के दोनों पैरों को अपने कन्धों पर टिकाया और लन्ड को उसकी चूत के मुंह पर रख कर धक्का लगाया। मेरा लोहे जैसा सख्त लौंडा एक ही झटके में आधा धंस गया। मोहिनी के मुंह से उफ की आवाज निकली पर अपने होठों को भींच कर नीचे से जवाबी धक्का दिया और मेरा लन्ड जड तक उसकी चूत में समा गया। फिर मेरी कमर पर हाथ रख कर मुझे थोडा रूकने का इशारा किया और बोली "तुम्हारा लन्ड तो बडा ही जानदार है। एक झटके में मेरी जान निकाल दी। अब थोडी देर धीरे धीरे अन्दर बाहर कर के मजा लो।"

मोहिनी के कहे मुताबिक मैं धीरे धीरे उसकी चूत में लन्ड अन्दर बाहर करने लगा। चूत काफी गीली हो चुकी थी इसलिए मेरे लन्ड को ज्यादा दिक्कत नहीं हो रही थी। मैं धीरे धीरे चूत चोदते हुए मोहिनी की मस्त चूचियों को भी मसल रहा था। बडी ही गजब की चूचियां थी उसकी। एक हाथ में नहीं समा सकती थी। । वो चित्त लेटी हुई थी पर चूचियों में जरा भी ढलकाव नहीं था और हिमालय की चोटियों की तरह तन कर ऊपर को खडी थी। उत्तेजना की वजह से उसके डेढ इन्च के निप्पल भी तने हुए थे और मुझे चूसने का आमन्त्रण दे रहे थे। मै दोनों निप्पलों को चुटकी में भर कर कस कस कर मसल रहा था। मोहिनी भी सिसकारी भर भर कर मुझे बढावा दे रही थी। आखिर मुझसे नहीं रहा गया और उसके पैरों को कन्धे से उतार कर जमीन पर सीधा किया और उसके ऊपर पूरा लम्बा होकर लेट गया। मोहिनी ने दोनों हाथों से अपनी चूचियों को पकड कर पास पास कर लिया और मैं दोनों निप्पलों को एक साथ चूसने लगा। ऐसा लग रहा था कि सारी दुनिया का अमृत उन चूचियों में ही भरा हो। मैं दोनों हाथों से चूचियों को मसल रहा था।

चूचियों की मसलाई और चुसाई में मैं अपनी कमर हिलाना ही भूल गया। तब मोहिनी अपने हाथ नीचे करके मेरे चूतडों पर ले गई और उन्हें फैला कर एक उंगली मेरी गान्ड में पेल दी। मैं चिहुंक गया एक जोरदार धक्कामोहिनी की चूत में लगा दिया। मोहिनीखिलखिला कर हंस पडी और बोली "क्यों राज्जा मजा आया। अब चलो वापस अपनी डियूटी पर।"

मोहिनी का इशारा समझ कर मैं वापस कमर हिला हिला कर उसकी चूत चोदने लगा। मोहिनी भी नीचे से कमर उठाने लगी और धीरे धीरे हम दोनों पूरे जोश के साथ चुदाई करने लगे। मैं पूरा लन्ड बाहर खींच कर तेजी से उसकी चूत में पेल देता। मोहिनी भी मेरे हर शॉट का जवाब साथ साथ देती। पूरे कमरे में फच फच की आवाज गूंज रही थी। जैसे जैसे जोश बढता गया हमारी रफ्तार भी तेज होती गई। आखिर उसकी चूचियों को छोड मैंने उसकी कमर को पकड कर तूफानी रफ्तार से चुदाई शुरू कर दी। मोहिनी भी कहां पीछे रहने वाली थी। वो भी मेरी गर्दन में हाथ डाल कर पूरे जोश से कमर उछाल रही थी। अब ऐसा लगने लगा था कि हम दोनों ही अपनी अपनी मंजिल पर पहुंच जाएंगे पर मोहिनी तो एक्सपर्ट चुदक्कड थी और अभी झडने के मूड में नहीं थी। उसनेे अपनी कमर को मेरी कमर की दिशा में ही हिलाना शुरू दिया। इससे लन्ड अन्दर बाहर होने के बजाए चूत के अन्दर ही रह गया। मेरी पीठ पर थपकी दे कर उन्होंने रफ्तार कम करने को कहा और बोली "थोडा सांस ले ले फिर शुरू होना। इतनी जल्दी झडने से मजा पूरा नहीं आएगा।"

मैंने किसी तरह अपने को संभाल कर रफ्तार कम की। मैं अब उसके रसीले होठों को चूसते हुए हौले हौले चोदने लगा। जब हम दोनों की हालत संभली तो दोबारा मोहिनी ने फुल स्पीड चुदाई का इशारा किया और फिर से मैं पहले की तरह चोदने लगा। रूक रूक कर चुदाई करने में मुझे भी मजा आ रहा था। हमारी इस चुदाई का दौर आधा घन्टे से भी ज्यादा चला। कई बार मेरे लन्ड में और उसकी चूत में उफान आने को हुआ और हर बार हमने रफ्तार कम करके उसे रोक लिया। हाालांकि कमरे में ए सी चल रहा था पर हम दोनो पसीने से नहा गए। आखिर मोहिनी ने मुझे झडने की इजाजत दी। मैं तूफान मेल की तरह उसकी चूत में धक्के लगाने लगा। वो भी कमर उछाल उछाल कर मेरी हर चोट का जवाब देने लगी। चरम सीमा पर पहुंच कर मैं जोर से चिल्लाया "मोहिनी मेरी जान। मैं आया" और उसकी चूत में जड तक लन्ड घुसा कर अपना सारा उफान उसके अन्दर डाल दिया। मोहिनी ने भी मेरी पीठ पर अपने पैर बांध कर मुझे कस कर चिपका लिया और चीखती हुई झड गई।

Read more...

  © Marathi Sex stories The Beach by Marathi sex stories2013

Back to TOP